पीछे

back
New Page 1
मोनोवीर
मोनोक्रोटोफास 36 प्रतिशत एस.एल.
मोनोवीर आर्गेनोफसस्फेट समूह का अर्न्तप्रवाही, उदर व स्पर्ष कीटनाशक है। यह कीटनाशी फसल पर छिड़काव के तुरंत बाद पत्तियों व पौधें के हरे भागों द्वारा अवशोषित हो इसका विष सम्पर्ण पौधे में फैल जाता है। यह कीटनाशी पौधों से रस चूसने वाले कीटो, पौधों को कुतरने वाले, तना व फलों को भेदने वाले सभी प्रकार के कीटों के नियंत्रण के लिए प्रभावी है। इसमें एक हद तक पौधों के लिए हानिकारक मकड़ियों को नष्ट करने की भी क्षमता है।

उपयोग तालिका

प्रमुख फसलें नियंत्रित होने वाले कीट मात्रा
(प्रति एकड़)
विशेष
गेहूँ व जौ चेपा (एफिड) 150 से 200 मि.ली. 80 से 120 लीटर पानी में घोल कर उपयोग करें।
चना,सूरजमुखी चेपा (एफिड) उपरोक्त 80 से 120 लीटर पानी में घोल कर उपयोग करें।
फली छेदक 200 से 250 मि.ली. 100 से 150 लीटर पानी में घोल कर प्रयोग करें।
सोयाबीन अरहर फली छेदक 200 से 250 मि.ली. 100 से 150 लीटर पानी में घोल कर प्रयोग करें।
नींबू वर्गीय  फल   चेपा, लीफमाइनर सिट्रस सिल्ला आदि रस चूसने वाले कीट 625 मि.ली. 500 लीटर पानी में घोल कर प्रयोग करें।
अमरूद  तना छेदक 280 मि.ली. 500 लीटर पानी में घोल कर प्रयोग करें।
गन्ना   तना व जड़ भेदक  कीट 250 से 300 मि.ली. 120 से 150 लीटर पानी में घोल कर प्रयोग करें।
 
सावधानियां - फसल की कटाई या फल तुडाई के पन्द्रह दिन पूर्व इस कीटनाशक का उपयोग न करें।
 

मोनोवीर से नियंत्रित कीट

दीमक की रानी व कामगार गेहूँ की फसल पर संन्य कीट सरसों की आरा मक्खी का प्रकोप
चने की फली छेदक लट;लू की फसल का कटुआ कीट सरसों का सेमी लूपर
उत्तम उत्पाद

अस्वीकरण   | कॉपीराइट © 2011 चम्बल फर्टिलाइजर्स एण्ड केमिकल्स लिमिटेड | सर्वश्रेष्ठ अवलोकन हेतू 1024 x 768 पर देखे