पीछे

back
New Page 1
फेनवीर डस्ट
फेनवेलरेट 0.4 प्रतिशत  डस्ट
फेनवीर डस्ट सिंथेटिक पायथ्रोइड वर्ग का स्पर्ष व उदर कीटनाशक चूर्ण है। इसका उपयोग गेहूँ, जौ, चना, गन्ना, आदि फसलों में पत्तियों को कुतर कर खाने वाले कीटों के लिए किया जाता है। असिंचित क्षेत्रों के अतिरिक्त फसलों के अंकुरण के पश्चात कुतरने वाले कीटों के नियंत्रण के लिए फेनवीर डस्ट एक प्रभावी कीटनाशक हैं।

उपयोग तालिका

प्रमुख फसलें नियंत्रित होने वाले कीट मात्रा
(प्रति एकड़ )
गेहूँ, जौ, चना,गन्ना, आदि भूमि उपचार हेतु गुजिया विविल, दीमक, कटुआ कीट 10 किलो खेत की में तैयारी के समय दें।
गेहूँ, जौ टिड्डे, चेपा, सेन्य कीट 10 किलो भुरकें
सरसों चित्रित मत्कुण, जाला बनाने वाली लट, आरामक्खी,चेपा आदि 10 किलो भुरकें
चना दीमक, फली छेदक 8 से 10 किलो फसल की अवस्थानुसार भुरकें
कपास सतही टिड्डे, अंकुरण पश्चात पत्तों को छेदने व कुतरने वाले कीट 10 किलो
घान पत्ता लपेटक लट, गंधी बग 10 किलो
बाजरा कातरा, ब्लिस्टर बिटिल, टिड्डे 10 किलो
मक्का पत्ते कुतरने वाले कीट 10 किलो
मूंग, मौठ, उर्द, सोयाबीन, अरहर कातरा, टिड्डे, फली छेदक 10 किलो
 
सावधानियां
1.  फसल पर कीटों के प्रभावी रोकथाम के लिए डस्टर यंत्र द्वारा एक समान प्रातःकाल या सायंकाल के समय शांत मौसम में ही भुरकाव करें।
2. कीटनाशक के चूर्ण की मात्रा बढाने के लिए उसमें राख या अन्य कोई भी चूर्णिय पदार्थ को नहीं मिलाऐ।
3. मुंह पर उपयुक्त मास्क का प्रयोग करते हुए हवा के रूख की ओर बढते हुए भुरकाव करें।
   
फेनवीर डस्ट से नियंत्रित कीट

गुजिया विविल गेहूँ में कट वर्म से हानि गोभी में चित्रित मत्कुण से हानि

चने में दीमक से हानि चने में फली छेदक से हानि सरसों में सेमीलूपर
 
 
उत्तम उत्पाद

अस्वीकरण   | कॉपीराइट © 2011 चम्बल फर्टिलाइजर्स एण्ड केमिकल्स लिमिटेड | सर्वश्रेष्ठ अवलोकन हेतू 1024 x 768 पर देखे