पीछे

back
New Page 1
टोरो-10
बाईफेनथ्रिन  10 प्रतिशत ई.सी.

टोरो-10 बाइफेन्थ्रीन पर आधारित विश्व प्रसिद्ध संश्लेषित पायथ्रोराइड वर्ग का सुरक्षित कीटनाशक है। धान की फसल में तना छेदक एवं पत्ती लपेट सुंडी व कपास की फसल में चितीदार सुंडी एवं मिलीबग के पूर्ण नियंत्रण के लिए अत्याधुनिक कीटनाशक है। अपनी लम्बी अवधि तक असर के कारण टोरो-10 फसलों में दीमक की रोकथाम के लिए एक बहुत प्रभावी और किफायती कीटनाशक है। टोरो-10 समेकित नाशीजीव प्रबंधन (आई.पी.एम) के अन्तर्गत मान्यता प्राप्त शक्तिशाली कीटनाशक होने से पर्यावरण के लिये तथा छिड़काव करने वाले व्यक्ति के लिये पूर्णतः सुरक्षित है।

 
उपयोग तालिका
प्रमुख फसलें नियंत्रित होने वाले कीट मात्रा
(प्रति एकड़)
विशेष
धान पत्ता लपेट सुंडी 100 - 150 मि.ली. प्रथम छिड़काव कीट के लक्षण दिखने पर एवं दूसरा छिड़काव 20-25 दिन के बाद।
तना छेदक 300 - 350 मि.ली.
कपास मिली बग 100-150 मि.ली. कीट के लक्षण दिखने पर छिड़काव करें।
चितीदार सुंडी  300-500 मि.ली. प्रथम छिड़काव फूल-डोडी लगने के  समय व दूसरा छिड़काव 15-20 दिन बाद।
दीमक 300-500 मि.ली  दीमक के प्रकोप दिखने पर 20-25 किलो रेत में मिला कर जड़ के पास बुरकाव करे।
गन्ना दीमक 400-500 मिली  फसल बुआई हेतु गन्ने की पोरी के ऊपर 200 से 250 लीटर पानी में घोलकर प्रयोग करें या दीमक का प्रकोप दिखने पर सिंचाई जल के साथ दें।
 
 
टोरो-10 द्वारा नियन्त्रित कीट :-

धान का तना छेदक

धान की पत्ता लपेटक सुंडी

जड़ों को कुतरती दीमक

कपास की चितकबरी सुंडी

कपास की मिली बग

मिलीबग-चिंटियों का सह-सम्बंध

 

 

 

 

 

 
उत्तम उत्पाद

अस्वीकरण   | कॉपीराइट © 2011 चम्बल फर्टिलाइजर्स एण्ड केमिकल्स लिमिटेड | सर्वश्रेष्ठ अवलोकन हेतू 1024 x 768 पर देखे