पीछे

back
New Page 1
वीरटॉप पावर
कार्टेप हाइड्रोक्लोराइड 4 प्रतिशत जी.आर.

वीरटॉप पावर एक प्राकृतिक रूप प्राप्त ''नेरीटाक्जिन'' कीटनाशक है जो कि ''नेरिस'' नामक समुद्री जीव में मिलता है। इस कीटनाशक का विभिन्न प्रकार के कीटों के नियंत्रण में अन्य रसायनिक कीटनाशको से भिन्न किन्तु बृहद प्रभाव देखा गया है। वीरटॉप का अन्तःप्रवाही असर से इसके प्रयोग करने पर पौधों से रस चूसने व उन्हें कुतरने वाले दोनों प्रकार के कीटों के लम्बे समय तक नियंत्रण हेतु किया जा सकता है।

वीरटॉप पावर खेतों में पल रहे मित्र कीटों, पक्षियों, एवं पशुओं के सुरक्षित है व कीटों में इसके प्रति अबरोधिता नहीं देखी गई है अतः जो कीट अन्य कीटनाशकों के प्रतिरोधी है उनके नियंत्रण के लिए यह एक अचूक व सुरक्षित कीटनाशक है।

 
उपयोग तालिका
प्रमुख फसलें नियंत्रित होने वाले कीट मात्रा
(प्रति एकड़)
विशेष
धान तना छेदक, पत्ती लपेटक, गोभ का कीट  (वर्ल मेगट) सफेद शिरे वाला सूत्रकृमि 7.5 से 10 किलो वीरटॉप पावर की आवश्यक मात्रा 20 से 25 किलो रेत के साथ मिला  कर खेत में 5 से 7 मि.ली. खड़े पानी में एक समान भुरके और खेत में अगले तीन से चार दिन तक पानी को खड़ा रहने दें।
गन्ना जड़ व तना छेदक 7.5 से 10 किलो वीरटॉप पावर की वान्छित मात्रा गन्ने  की बिजाई के 30 से 35 दिन बाद कतारों में पौधों की जड़ों के पास दें।
 
नोट -
वीरटॉप पावर को खेत में बिखेरने समय हाथों में दस्ताने पहने।
 
वीरटॉप पावर द्वारा नियन्त्रित कीट ::-

धान में तना छेदक से हानि धान की पत्ता लपेटक

तना छेदक की लट

वर्ल मेंगट गन्ने का तना छेदक

जड़ छेदक से हानि

उत्तम उत्पाद

अस्वीकरण   | कॉपीराइट © 2011 चम्बल फर्टिलाइजर्स एण्ड केमिकल्स लिमिटेड | सर्वश्रेष्ठ अवलोकन हेतू 1024 x 768 पर देखे