पीछे

back
New Page 1
वीर एम-45
मैन्कोजेब 75 प्रतिशत डब्ल्यु.पी.

वीर एम-45 एक बहु - स्तरीय प्रभाव वाला डाईथियोकार्बामेट वर्ग का फफूंदनाशक है । यह फफूंदनाशक हवा के संपर्क में आने पर , आइसोथायोसाइनाइट में में परिवर्तित हो अनेको फफूंदों में बनने वाले सल्फाहाइड्रिल वर्ग के एन्जाइम की गतिविधि को रोक देता है जिसके प्रभाव से रोगकारक फफूंदों की वृद्धि रुक जाती है । वीर एम - 45 का उपयोग फसलों में फफूंदजन्य रोगों के प्रकोप की आशंका होने पर एहतिहातन एवं रोग लगने के उपरांत उनके नियंत्रण करने जैसी दोनों स्थितियों में किया जाता है । इस फफूंदनाशक का बीज की सतह में विद्यमान फफूंद को बीजोपचार द्वारा नष्ट करने में भी किया जाता है ।

प्राकृतिक परिवेश में वीर एम-45, कुछ समय बाद ही मानव, पालतू पशु-पक्षियों के लिए हानिरहित पदार्थ में विघठित हो जाता है।

 
उपयोग तालिका
प्रमुख फ़सलें नियंत्रित होने वाले रोग मात्रा
(प्रति एकड़)
विशेष
गेहूँ फ्लेग स्मट 600  ग्राम
 
200 लीटर पानी में घोल कर दोपहर बाद छिड़काव करें।
सरसों सफेद रोली,आल्टरनेरिया,तुलासिता, तना गलन रोग 500- 600  ग्राम
 
उपरोक्त
 
चना झुलसा, ग्रे मोल्ड 500 - 600  ग्राम उपरोक्त
मटर व अलसी रोली रोग 500 ग्राम
 
उपरोक्त
 
प्याज व
लहसुन
मृदुरोमिल आसिता, परपल ब्लांच 600 - 750  ग्राम
 
250 - 300 लीटर पानी में घोल कर छिड़काव करें
आलू अगेती व पिछेती झुलसा रोग 600- 750  ग्राम
 
उपरोक्त
धान ब्लास्ट  500 ग्राम 200 लीटर पानी में घोल कर  छिड़के ।
मिर्च  फल सड़न 750  ग्राम 10 दिन के अंतराल में 3 - 4  बार  छिड़के।
कपास जीवाणुज कोणिय पत्ती, धब्बा रोग (ब्लेक आर्म) 500 ग्राम वीर एम-45 के साथ में 3 ग्राम स्ट्रेप्टोसाइक्लीन मिला कर 15 से 20 दिन के अंतराल में दो बार  छिड़के ।
  पत्ती धब्बा रोग  500 ग्राम लक्षण दिखने पर 15 से 20 दिन के अंतराल में दो बार  छिड़के ।
बाजरा तुलासिता(डाउनी मिल्ड्यू) 250-300 ग्राम बुआई के 20 से 30 दिन बाद या रोग  के लक्षण दिखने पर 10 से 15 दिन के अंतराल में दो बार  छिड़के ।
सोयाबीन, ग्वार जीवाणुज पत्ती धब्बा रोग, झुलसा रोग 300 ग्राम वीर एम-45 के साथ में 10 ग्राम  स्ट्रेप्टोसाइक्लीन मिला कर 15 से 20 दिन के अंतराल में दो बार  छिड़के ।
सोयाबीन, मूंग  पत्ती धब्बा, तना सडन रोग   400 ग्राम रोग दिखने पर 15 से 20 दिन के अंतराल में दो बार  छिड़के ।
मक्का भूरी धारी पत्ती रोग व पत्ती धब्बा रोग 200 ग्राम
मूंगफली तना सडन, टिक्का रोग 500 ग्राम  रोग दिखने पर 15 से 20 दिन के अंतराल में दो बार  छिड़के ।
 
 
वीर एम-45 द्वारा नियन्त्रित रोग ::
कपास का ब्लेक आर्म रोग कपास का पत्ती धब्बा रोग मूंगफली का टिक्का रोग
बाजरे का तुलासिता रोग मक्के का पत्ती धब्बा रोग सोयाबीन का तना सडन रोग
उत्तम उत्पाद

अस्वीकरण   | कॉपीराइट © 2011 चम्बल फर्टिलाइजर्स एण्ड केमिकल्स लिमिटेड | सर्वश्रेष्ठ अवलोकन हेतू 1024 x 768 पर देखे