पीछे

back
New Page 1

माह - जुलाई

 

इसी माह के शुरू में अथवा कभी कभी जून माह के अंतिम दिनों में मॉनसून की पहली वर्षा भी शुरू हो जाती है। इसी वर्षा के साथ-साथ, विशेषकर बारानी क्षेत्रों में, ख़रीफ़ फ़सल उगाने की प्रक्रिया शुरू हो जाती है। खेत की जुताई भी इसी माह में हो जाती है तथा फिर फ़सलों की बुवाई शुरू हो जाती है। धान की पौध की, मुख्य खेत में रोपाई भी इसी माह में की जाती है। बुवाई की जाने वाली फ़सलों में हैं -  बाजरा, ज्वार, मक्का, मूंग, उड़द, ग्वार, लोबिया तथा इन्हीं फ़सलों में से जैसे ज्वार, मक्का, बाजरा, लोबिया तथा ग्वार आदि फ़सलों को चारे के लिये भी बोया जा सकता है। किसी भी एक किसान को अपने खेत में बुवाई के लिये किन-किन फ़सलों का चुनाव करना है तथा उन फ़सलों की किन-किन क़िस्मों का चुनाव एवं प्रबन्ध करना है, यह सब उस किसान की अपनी आवश्यकता पर निर्भर करता है। साथ में यह भी ध्यान रखें कि भूमि की उर्वराशक्ति का अधिक ह्रास न हो बल्कि यह और बढ़े। इसके लिये फ़सल चक्र में दलहनीय फ़सलों का समावेश बहुत ही आवश्यक है; जैसे ज्वार के बाद अरहर की फ़सल उगानी चाहिए।

राजस्थान के विभिन्न खण्डों के लिये ख़रीफ़ की उवयुक्त क़िस्में
बाजरा
श्रीगंगानगर  डब्ल्यू सी सी 75, आर सी बी 2, एच एच बी 67, राज 171
जोधपुर डब्ल्यू सी सी 75, आर सी बी 2, एम एच 179, एच एच बी 60, एच एच बी 67, आर एच बी 58, आई सी एम एच 356, राज 171, एम एच 169
जयपुर डब्ल्यू सी सी 75, आर सी बी 2, एम एच 179, एच एच बी 60, एच एच बी 67, राज 171, आर एच बी 30, आर एच बी 58, आई सी एम एच 356
भरतपुर डब्ल्यू सी सी 75, आर सी बी 2, एम एच 179, सी एम 46, एम एच 169, आइ सी टी पी 8203, आर एच बी 58, एच एच बी 67, राज 171, आई सी एम एच 356
भीलवाड़ा आर सी बी 2, सी एम 46, एम एच 36, एच एच बी 67
कोटा डब्ल्यू सी सी 75, आर सी बी 2, एम एच 179
ज्वार
जोधपुर सी एस एच 1, 5, 6, एवं एस पी वी 96
जयपुर सी एस एच 6, सी एस वी 10, सी एस वी 15, सी एस एच 9
कोटा सी एस एच 5, 6, 9 एवं एस पी वी 96, 245, एस पी वी 346, 475
उदयपुर सी एस एच 5, 6, 9 एवं एस पी वी 245
भरतपुर सी एस एच 5, 6, 9, एवं एस पी वी 245
भीलवाड़ा सी एस एच 5, 6, 9, 14 एवं एस पी वी 245, एस पी वी 13, एस पी वी 15, एस पी वी 96 (आर जे 96) , एस पी वी 10 (सी एस वी 10)
 
हरे चारे हेतु क़िस्में एस एस जी 59-3, एम पी चरी, राजस्थान चरी-1, राजस्थान चरी-2
मक्का
जोधपुर डक्कन 103, अगेती 76, नवजोत (जे 684), किरण (जे 660)
जयपुर माही कंचन, अगेती 76
कोटा गंगा सफेद 2, अगेती 76, नवजोत (जे 684)
उदयपुर गंगा सफेद-2, गंगा 11, अगेती-76, नवजोत, विजय, किरण, डी-765, तरूण, माही धवल, माही कंचन, संकर के एच 510
भरतपुर बस्सी सिलेक्टेड, गंगा 11, तरूण, अगेती 76
भीलवाड़ा गंगा सफेद-2, गंगा 11, विजय, डक्कन 103, नवजोत (जे 684), किरण (जे 660), माही कंचन, माही धवल, हिम 129
सोयाबीन
भीलवाड़ा टी-49, पंजाब-1, एम.ए.सी.एस-13 व 58, मोनेटा, गौरव, पी. के. 472, टी-1, पी. एस.-16, जे. एस. 71-05, जे. एस 335
उदयपुर गौरव, पंजाब-1, कालीतूर, पी. के. 472, एल. आर. सी.-7
कोटा गौरव, एम.एस.सी.एस.-13, 58, मोनेटा, जे. एस. 80-21, पी एस-16
जयपुर, भरतपुर, जौधपुर मोनेटा, टी-9, पी.के.-472, जे.एस. 80-21, एम.ए.सी.एस.-58, एम.ए.सी.एस.-13, पी. एस. 16, गोरव, पंजाब-1
मूंगफली
श्रीगंगानगर आर. एस. बी. 87, एम-13, चन्द्रा
जौधपुर आर. एस. 1, आर. एस. बी. 87, एम-13
जयपुर आर. एस. 1, आर. एस. बी. 87, एम. ए. -10 (चित्रा), एम-13, आर.जी.-141
भरतपुर आर. एस. 1, आर. एस. बी. 87, ए. के. 12-24, एम-13
ग्वार
इनकी उन्नत क़िस्में निम्न हैं
दुर्गापुरा सफेद दुर्गाजय मरू ग्वार
आर.जी.सी.-197 आर.जी.सी.-936 आर.जी.सी.-986
सब्ज़ी के लिये दो मुख्य क़िस्में हैं
पूसा नव बहार दुर्गा बहार
अस्वीकरण   | कॉपीराइट © 2011 चम्बल फर्टिलाइजर्स एण्ड केमिकल्स लिमिटेड | सर्वश्रेष्ठ अवलोकन हेतू 1024 x 768 पर देखे