पीछे

back
New Page 1

माह - फरवरी

   
फसल कीट/व्याधि हानि के लक्षण रोकथाम/नियंत्रण
गेहूँ/जौ झुलसा एवं पत्ती घब्बा  रोग पत्तियों पर भूरे रंग के लम्बे आकार के धब्बे पड़ जाते है, पत्तियाँ झुलसी हुई प्रतीत होती है।  जनवरी माह से ही 15 दिन के अन्तराल पर 2.5 किलो जाइनेब या मेंकोजेब 2 किलो या कॉपर ऑक्सिक्लोराइड़ 3 किलो प्रति हेक्टेअर का छिड़काव करें।
रोली रोग पीली एवं भूरी रोली के धब्बे पत्तियों एवं तने पर पड़ने से फसल कमजोर हो जाती है। काली रोली फसल की कटाई होने के समय आती है। यदि प्रतिरोधी क़िस्में नहीं बोई गई हों तो सुरक्षात्मक उपाय के रूप में 25 किलो सल्फ़र डस्ट का भुरकाव या 2 किलो मेंकोजेब का छिड़काव प्रति हेक्टेअर करें।
अनावृत कण्डवा एवं पत्ती कण्डवा रोग  इससे बालियों के दाने काले चूर्ण के रूप में परिवर्तित हो जाते है। प्रभावित पौधों को उखाड़ कर जला दें। उखाड़ते समय बालियों को पोलीथीन की थैली से ढक कर उखाड़ें ताकि काला पावडर भूमि पर नहीं गिरे।
चना फली छेदक  हरे रंग की सवा इंच तक लम्बी व 0.25 इंच मोटाई तक बढने वाली इल्लियाँ चनें के दानों को खाती है। मेलाथियान 50 ई०सी० या 1.25 लीटर या क्यूनालफ़ॉस 25 ई०सी० या मोनोक्रोटोफ़ॉस 36 एस०एल० 1 लीटर या फोज़ेलॉन 1875 मि०लि० या साइपरमेथ्रिन 25 ई०सी० 200-400 मि०लि० या डेकामेथ्रिन 400-500 मि०लि० प्रति हेक्टेअर का छिड़काव करें। नीम की पत्ती के रस का 10% घोल या नीम आधारित कीटनाशकᅠ3-4 लीटर/हेक्टेअर छिड़काव करें।
झुलसा रोग  पत्तियॉं, तने, फलियों पर छोटे भूरे रंग के धब्बे हो जाते है। प्रकोप बढने पर तना व डंठल टूटकर झुक जाते है। मेंकाजेब 2 ग्राम या कॉपर ऑक्सीक्लोराइड 3 ग्राम या घुलनशील सल्फ़र 2 ग्राम या क्लोरोथेलोनिल 1 ग्राम प्रति लीटर पानी में घोलकरᅠ छिड़कें।
सरसों झुलसा, तुलासिता एवं सफेद रोली इस प्रकार के रोगों से फसल को काफी हानि होती है। सफेद रोली से फलियां रूपान्तरित हो जाती है। कॉपर आक्सीक्लोराइड या मेंकोजेब 2 किलो प्रति हेक्टेअर का छिड़काव  करें।
छाछ्या/भभूतिया (पावडरी मिल्ड्यू) पत्तियाँ, तने व फलियों पर सफेद रगं का पावडर जमा होने से फसल कमजोर हो जाती है। 20 किलो सल्फ़र डस्ट/हेक्टेअर भुरकें या 2.5 किलो घुलनयुक्त सल्फ़र या 750 मि०लि० डायनोकेप प्रति हेक्टेअर का छिड़काव करें।
सूरजमुखी फली छेदक चने की यह इल्ली दानों को खाती है। मोनोक्रोटोफ़ॉस 36 एस०एल० 1 लीटर प्रति हेक्टेअर का छिड़काव करें।
मटर  फली छेदक चने की यह इल्ली मटर में भी दाने खाती है। मोनोक्रोटोफ़ॉस 36 एस०एल० 500 मि०लि० या क्यूनालफ़ॉस 25 ई०सी० 1 लीटर प्रति हेक्टेअर का छिड़काव करें। दवा छिड़कने के 15 दिन बाद हरी फलियाँ उपभोग में लें।ᅠ
राजमा फली छेदक  चने की यह इल्ली इसके दाने खा जाती है। मोनोक्रोटोफ़ॉस 36 एस०एल० 1 लिटर प्रति हेक्टेअर का छिड़काव करें।
अस्वीकरण   | कॉपीराइट © 2011 चम्बल फर्टिलाइजर्स एण्ड केमिकल्स लिमिटेड | सर्वश्रेष्ठ अवलोकन हेतू 1024 x 768 पर देखे