कृषि समस्याएं और सुझाव

प्रस्तुत प्रश्नोत्तरी किसानो द्वारा पूछे गये प्रश्नों एवं विशेषज्ञों द्वारा दिये गये उत्तरों पर आधारित एक उपयोगी संकलन है । इस प्रश्नोत्तरी में दी गई जानकारी , कृषि एवं कृषि आधारित समस्याओं का समाधान करने में कारगर साबित हो सकती है ।

खोजे :

में:

  
 अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न प्रिंट अनुच्छेद पसंदीदा में जोड़ें अपने मित्र को भेजें
धान

 10. 

 प्रश्न : धान के पौधों पर तेले का नियन्त्रण कैसे करें?

उत्तर : इन कीड़ों के बच्चे पौधों से रस चूसते हैं। पत्तों का तेला पत्तों से रस चूसता है जबकि पौधों का तेला तने के निचले भाग से रस चूसता है। आक्रमण के कारण फ़सल पीली होकर सूख जाती है। आक्रमण गोलाकार टुकड़ियों में शुरु होता है जो कि धीरे-धीरे बढ़ता जाता है और अन्त में सारा खेत ही सूख जाता है। इसे ‘हॉपर बर्न’ के नाम से जाना जाता है। हरियाणा में मुख्य समस्या सफ़ेद पीठ वाले तेले की है। इसकी रोकथाम के लिए 10 किलोग्राम कार्बेरिल 5 प्रतिशत का धूडा या मिथाइल पैराथियान 2 प्रतिशत का धूडा प्रति एकड़ धूडें। एक एकड़ फ़सल के खड़े पानी में बुरकें अथवा 200 लीटर पानी में 400 ग्राम कार्बेरिल 50 घु० पा० या 125 मि० ली० डाइक्लोरवास 76 ई० सी० (डाईवीर) या 250 मि० ली० मोनोक्रोटोफ़ॉस 36 एस० एल० (मोनोवीर) प्रति एकड़ छिड़कें। इन कीटनाशकों का छिड़काव पौधे के निचले भागों की ओर रखें। आवश्यकतानुसार 10 दिन के बाद फिर छिड़काव करें।

पीछे जाएँ
अस्वीकरण   | कॉपीराइट © 2011 चम्बल फर्टिलाइजर्स एण्ड केमिकल्स लिमिटेड | सर्वश्रेष्ठ अवलोकन हेतू 1024 x 768 पर देखे