कृषि समस्याएं और सुझाव

प्रस्तुत प्रश्नोत्तरी किसानो द्वारा पूछे गये प्रश्नों एवं विशेषज्ञों द्वारा दिये गये उत्तरों पर आधारित एक उपयोगी संकलन है । इस प्रश्नोत्तरी में दी गई जानकारी , कृषि एवं कृषि आधारित समस्याओं का समाधान करने में कारगर साबित हो सकती है ।

खोजे :

में:

  
 अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न प्रिंट अनुच्छेद पसंदीदा में जोड़ें अपने मित्र को भेजें
औषधीय पौधे

 1. 

 प्रश्न : ग्वारपट्‌ठा की खेती के बारे में जानकारी दें।

उत्तर : यह भारत के आमतौर पर सभी क्षेत्रों में उगाया जा सकता है। इसको पानी की आवश्यकता बहुत कम है। अतः इसको राजस्थान, गुजरात, मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र तथा हरियाणा के शुष्क इलाकों में उगाया जा सकता है। इसकी काश्त के लिए मोटी रेत वाली दोमट मिट्‌टी तथा कम उपजाऊ, शक्तिशाली और लगभग 8.0 पी० एच० तक की ज़मीन उपयुक्त है। पानी के निकास का उचित प्रबन्ध अति आवश्यक है। इसकी बिजाई सिंचित क्षेत्रों में सर्दी के बजाय सारा वर्ष की जा सकती है। परन्तु अच्छी पैदावार के लिए इसकी बिजाई जुलाई-अगस्त के महीनों में करनी चाहिए। इसकी बिजाई तीन से चार महीनों के शकर व चार पांच पत्तों वाले लगभग 20-25 से० मी० लम्बाई के 60ग60 से० मी० की दूरी पर लगाने चाहिए। शकर के चारों तरफ ज़मीन को अच्छी तरह से दबा देना चाहिए। 28000 से 34000 शकर एक हैक्टर ज़मीन के लिए काफ़ी है। बीजाई के एक मास बाद पहली गुड़ाई करनी चाहिए। 2-3 गुडाइयां प्रति वर्ष बाद में करनी चाहिए। खरपतवार बिल्कुल नहीं होने चाहिएँ। बीमारी वाले तथा सूखे पौधों को निकाल देना चाहिए। दो वर्ष बाद की फ़सल से 60-80 क्विंटल प्रति एकड़ ताजे पत्ते प्राप्त होते हैं।

पीछे जाएँ
अस्वीकरण   | कॉपीराइट © 2011 चम्बल फर्टिलाइजर्स एण्ड केमिकल्स लिमिटेड | सर्वश्रेष्ठ अवलोकन हेतू 1024 x 768 पर देखे