कृषि समस्याएं और सुझाव

प्रस्तुत प्रश्नोत्तरी किसानो द्वारा पूछे गये प्रश्नों एवं विशेषज्ञों द्वारा दिये गये उत्तरों पर आधारित एक उपयोगी संकलन है । इस प्रश्नोत्तरी में दी गई जानकारी , कृषि एवं कृषि आधारित समस्याओं का समाधान करने में कारगर साबित हो सकती है ।

खोजे :

में:

  
 अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न प्रिंट अनुच्छेद पसंदीदा में जोड़ें अपने मित्र को भेजें
सब्जियाँ

 7. 

 प्रश्न : ढींगरी खुम्ब उत्पादन सफ़ेद खुम्ब उत्पादन से भिन्न कैसे है?

उत्तर : 1. सफ़ेद बटन खुम्ब उगाने के लिए जिस कम्पोस्ट की आवश्यकता होती है, उसे तैयार करने के लिए कम से 20-28 दिन का समय व गेहूँ का भूसा तथा अन्य सामान चाहिए। इसके विपरीत ढींगरी उत्पादन के लिए गेहूँ का भूसा अथवा धान की पुआल को केवल 12 घंटे के लिए पानी में भिगोना पड़ता है तथा इसकी मात्रा आवश्यकतानुसार घटाई -बढाई जा सकती है। शहरी व ग्रामीण महिलायें इसे अपने घरों में बिना किसी कठिनाई से उगा सकती है।
2. बटन खुम्ब की तरह ढींगरी में केसिंग की आवश्यकता नहीं है।
3. ढींगरी को शहतूत की टोकरी, नाईलोन की जाली, लकडी की किसी भी आकार की पेटी तथा प्लास्टिक लिफाफों में सरलतापूर्वक उगाया जा सकता है।
4. सफ़ेद बटन खुम्ब के उत्पादन के लिए जहाँ कम्पोस्ट बनाने से खुम्ब उत्पादन शुरू होने तक 50-60 दिन का समय लगता है वहाँ ढींगरी केवल 20-25 दिन में पहली फ़सल दे देती है।
5. हरियाणा की जलवायु अनुसार जहाँ बटन की खेती केवल नवम्बर से फरवरी माह तक ही की जा सकती है वहाँ पर ढींगरी की खेती मई-जून के माह को छोड़कर लगभग सारा साल की जा सकती है।
6. बटन खुम्ब की अपेक्षाकृत ढींगरी में कीडों व बीमारियों का प्रकोप बहुत ही कम है।
7. रखरखाव में भी ढींगरी आसान है तथा इसे भविष्य में प्रयोग के लिए सरलतापूर्वक धूप में सुखाया जा सकता है।

पीछे जाएँ
अस्वीकरण   | कॉपीराइट © 2011 चम्बल फर्टिलाइजर्स एण्ड केमिकल्स लिमिटेड | सर्वश्रेष्ठ अवलोकन हेतू 1024 x 768 पर देखे