कृषि समस्याएं और सुझाव

प्रस्तुत प्रश्नोत्तरी किसानो द्वारा पूछे गये प्रश्नों एवं विशेषज्ञों द्वारा दिये गये उत्तरों पर आधारित एक उपयोगी संकलन है । इस प्रश्नोत्तरी में दी गई जानकारी , कृषि एवं कृषि आधारित समस्याओं का समाधान करने में कारगर साबित हो सकती है ।

खोजे :

में:

  
 अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न प्रिंट अनुच्छेद पसंदीदा में जोड़ें अपने मित्र को भेजें
गन्ना

 8. 

 प्रश्न : गन्ना फ़सल में खाद सम्बन्धी सिफारिशों के बारे में बतायें।

उत्तर : गन्ना फ़सल में खाद सम्बन्धी सिफ़ारिश इस प्रकार है -

 

मात्रा किलोग्राम/एकड़

फ़सल नाइट्रोजन      फ़ॉस्फ़रस     उर्वरक डालने का समय और तरीक़ा

बसंतकालीन 60    20    पूरा फ़ॉस्फ़रस व 1/3 नाइट्रोजन बिजाई के समय, 1/3 नाइट्रोजन दूसरी तथा 1/3 नाइट्रोजन चौथी सिंचाई के साथ डालें।

पेडी (रेट्‌न)   90    20    1/3 नाइट्रोजन व पूरी फ़ॉस्फ़रस फरवरी में पहली गोडाई करते समय पोरें 1/3 नाइट्रोजन अप्रैल में तथा शेष बची नाइट्रोजन जून में दें।

शरद्‌कालीन   60    20    अन्तवर्ती फ़सलों में सिफ़ारिश किए गए उर्वरकों की मात्रा दें। गन्ने में पूरी फ़ॉस्फ़रस व 1/3 नाइट्रोजन बिजाई के समय, 1/3 नाइट्रोजन

अन्तर्वर्ती फ़सल काटने के बाद तथा 1/3 नाइट्रोजन जून के दूसरे पखवाडे में या मानसून शुरू होने पर डालें।

 

नोट : मिट्‌टी परीक्षण के आधार पर उर्वरकों के प्रयोग से अच्छी पैदावार मिलती है। यदि गन्ना, गेहूँ की कटाई के बाद बोया गया है तो आधी मात्रा नाइट्रोजन की और पूरी मात्रा फ़ॉस्फ़रस की बिजाई के समय डालें तथा शेष बची हुई नाइट्रोजन की मात्रा जून के अन्त में डालें। यदि जून के महीने में सिंचाई का पानी न मिले तो शेष बची आधी नाइट्रोजन की मात्रा मानसून शुरू होने पर ही डालें। यदि गन्ना बालुई-दोमट भूमि में बोया जाए तो 10 किलो उत्तम ज़िंक सल्फ़ेट प्रति एकड़ बिजाई के समय डालें। पोटाश की कमी वाले खेतों में आवश्यकता अनुसार पोटाश वाली खाद अवश्य दें।

 



पीछे जाएँ
अस्वीकरण   | कॉपीराइट © 2011 चम्बल फर्टिलाइजर्स एण्ड केमिकल्स लिमिटेड | सर्वश्रेष्ठ अवलोकन हेतू 1024 x 768 पर देखे