पीछे

back

भिंडी की खेती

भूमि व खेत की तैयारी क़िस्में बीज की मात्रा व बुआई का तरीक़ा
बुआई का समय खाद और उर्वरक निराई  व सिंचाई
पौध संरक्षण कटाई व उपज
 

भिंडी एक लोकप्रिय सब्जी है। इसमें कैल्शियम, फ़ॉस्फ़रस, विटामिन ए, बी तथा सी पर्याप्त मात्रा में पाये जाते है।

भूमि व खेत की तैयारी

भिंडी के लिये दीर्घ अवधि का गर्म व नम वातावरण श्रेष्ठ माना जाता है। बीज उगने के लिये 27-30 डिग्री से०ग्रे० तापमान उपयुक्त होता है तथा 17 डि से० ग्रे से पर बीज अंकुरित नहीं होते। यह फ़सल ग्रीष्म तथा खरीफ, दोनों ही ऋतुओं में उगाई जाती है। भिंडी को उत्तम जल निकास वाली सभी तरह की भूमि में उगाया जा सकता है। भूमि का पी एच० मान 7 से 7.8 होना उपयुक्त रहता है।

उत्तम क़िस्में

  1. पूसा ए -4 : यह भिंडी की एक उन्नत क़िस्म  है। यह पीतरोग  येलोवेन मोजोइक रोधी है। फल मध्यम आकार के गहरे, कम लेस वाले तथा आकर्षक होते है। बोने के लगभग 15 दिन बाद से फल आना शुरू हो जाते है। इसकी औसत पैदावार ग्रीष्म में 10 टन व खरीफ में 15 टन प्रति है० है।

  2. परभनी क्रांति : यह क़िस्म पीत-रोगरोधी है। फल बुआई के लगभग 50 दिन बाद आना शुरू हो जाते है। फल गहरे हरे एवं 15-18 सें०मी० लम्बे होते है। इसकी पैदावार 9-12 टन प्रति है० है।

  3. पंजाब -7 : यह क़िस्म भी पीतरोगीरोधी है। फल हरे एवं मध्यम आकार के होते है। बुआई के लगभग 55 दिन बाद फल आने शुरू हो जाते है। इसकी पैदावार 8-20 टन प्रति है० है।

  4. इसके अलावा भिंडी की अन्य उन्नत किस्में है - पंजाब पद्मिनी , हिसार उन्नत व वर्षा उपहार।

बीज की मात्रा व बुआई का तरीक़ा

सिंचित अवस्था में पंजाब, राजस्थान व हरियाणा में 2.5 से 3 कि०ग्रा० तथा असिंचित दशा में 5-7 कि०ग्रा० प्रति हेक्टेअर  की आवश्यकता होती है। उत्तर प्रदेश तथा मध्य प्रदेश में 5 से 7 कि०ग्रा० प्रति हेक्टेअर  बीज कीझ संस्तुति दी गयी है। लाइन से लाइन की दूरी 30 सें०मी०, पौधे से पौधे की दूरी 10 सें०मी० व 2 से 3 सें०मी० गहरी बुवाई करनी चाहिए।

ग्रीष्म ऋतु में 30 x 15 सें०मी० वर्षा में 45 x 70 x 20 x 25 सें०मी० की दूरी पर बुआई करनी चाहिए ।

 

बुआई का समय

भिंडी के बीज सीधे खेत में ही बोये जाते है। बीज बोने से पहले खेत को तैयार करने के लिये 2-3 बार जुताई करें। पूरे खेत को उचित आकार की पट्टियों में बांट लें जिससे कि सिंचाई करने में सुविधा हो। वर्षा ऋतु में जल निकास की दृष्टि से क्यारियों को तैयार करें।

 

खाद और उर्वरक 

  1. प्रति हेक्टेअर  क्षेत्र में लगभग 15-20 टन गोबर की खाद 300 कि० ग्रा० अमोनियम सल्फ़ेट या 400 कि० ग्रा० सुपर फ़ॉस्फ़ेट एवं 100 कि० ग्रा० उत्तमवीर यूरिया 15 दिन के अन्तर पर 2 किश्तों में डालना चाहिए। ग्रीष्म ऋतु में हर 5-7 दिन बाद तथा ऋतु में आवश्यकतानुसार सिंचाई करनी चाहिए ।

  2. गीष्म ऋतु में हर दिन, बाद वर्षा ऋतु में आवश्यकतानुसार सिंचाई करनी चाहिए।

निराई व सिंचाई

सिंचाई मार्च में 10-12 दिन, अप्रैल में 7-8 दिन और मई-जून मे 4-5 दिन के अन्तर पर करें। बरसात में यदि बराबर वर्षा होती है तो सिंचाई की आवश्यकता नहीं पड़ती है ।

 

पौध संरक्षण

तना, फल छेदक एवं फुदका इसके नियन्त्रण के लिये 100-150  मि०ली० इमिडावीर प्रतिशत घोल का छिड़काव करना चाहिए। फलों को छिड़काव से पहले तोड़ लेना चाहिए तथा इसके अलावा कीड़ा लगे फलों को तोड़ कर ज़मीन में गाड़ देना चाहिए।

पीत रोग, येलो बेन मौजेक यह भिंडी का प्रमुख रोग है। इस रोग में पत्तियों की शिराएँ पीली पड़ने लगती हैं अन्ततः पूरा पौधा एवं फल पीले हो जाते हैं। इस रोग से बचाने के लिये रोगरोधी क़िस्मों का ही प्रयोग करना चाहिए।

 

कटाई व उपज

भिंडी की तुड़ाई हर तीसरे या चौथे दिन आवश्यक हो जाती है। तोड़ने में थोडा भी अधिक समय हो जाने पर फल कडा हो जाता है। फल को फूल खिलने के 5-7 दिन के भीतर अवश्य तोड़ लेना चाहिए।उचित देखरेख, उचित क़िस्म व खाद- उर्वरकों के प्रयोग से प्रति हेक्टेअर 130-150 कुन्तल हरी फलियाँ प्राप्त हो जाती हैं।

 

अस्वीकरण   | कॉपीराइट © 2011 चम्बल फर्टिलाइजर्स एण्ड केमिकल्स लिमिटेड | सर्वश्रेष्ठ अवलोकन हेतू 1024 x 768 पर देखे